वैशाख पूर्णिमा (Vaishakh Purnima) 2021 – कब है? जानें तिथि, महत्व और पूजा विधि

वैशाख पूर्णिमा (Vaishakh Purnima) कब है? जानें तिथि, महत्व और पूजा विधि

आज से वैशाख के पावन महीने की शुरुआत हो गई है। वैशाख माह का विशेष महत्व बताया गया है। इस माह में व्रत, दान या अन्य धार्मिक कार्य करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। हिंदू धर्म में पूर्णिमा तिथि का विशेष महत्व होता है। पूर्णिमा तिथि पर स्नान, दान, व्रत करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है। इस साल वैशाख पूर्णिमा के पावन दिन साल का पहला चंद्र ग्रहण भी लगने जा रहा है।

वैशाख पूर्णिमा कब है?

  • इस साल 26 मई को वैशाख पूर्णिमा है। इसी दिन साल का पहला चंद्र ग्रहण भी लगने जा रहा है। यह ग्रहण संपूर्ण भारत में नहीं देखा जाएगा, जिस वजह से इसका प्रभाव भी संपूर्ण भारत में नहीं पड़ेगा।

वैशाख पूर्णिमा का महत्व

  • वैशाख पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु की पूजा- अर्चना करने का विशेष महत्व होता है।
  • इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करने से सभी मनोकामनाओं की पूर्ति हो जाती है। 
  • इस दिन व्रत करने से सुख- समृद्धि में वृद्धि होती है।
  • इस पावन दिन को बुद्ध जयंती के रूप में भी मनाया जाता है। 

वैशाख पूर्णिमा पूजा विधि-

  • वैशाख पूर्णिमा के दिन सूर्योदय से पहले पवित्र नदी में स्नान करना चाहिए। आप घर में ही नहाने के पानी में गंगाजल डालकर भी स्नान कर सकते हैं।
  • इसके बाद घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
  • भगवान विष्णु की पूजा- अर्चना करें और व्रत का संकल्प लें।
  • इस दिन सत्यनारायण भगवान की कथा भी की जाती है।
  • दिन भर भगवान का अधिक से अधिक ध्यान करें। 
  • शाम को चंद्रमा को अर्घ्य दें।