Children Story in Hindi (बम बम हजाम – Bam Bam Hajjam)

children story in hindi

बम बम हजाम

बहुत पुरानी बात है , माधवपुर नाम का एक राज्य था। वहाँ के राजा का नाम कल्याण सिंह था । एक दिन जब राजा सुबह उठे तो उन्हें अपने सर पे दो छोटी – छोटी सींग निकले हुए महसूस हुए । अब तो राजा बहुत चिंतित हो गये कि जब पूरे राज्य में यह बात पता चलेगी तो प्रजा उनका मजाक उड़ायेगी । अत: राजा ने अब किसी के भी सामने अपने मुकुट को सर पर से नहीं हटाने का निश्चय किया। ऐसा तो बाकी महल के वासियों और प्रजा से तो करने में कोई मुश्किल नहीं थी लेकिन जब उन्हें अपने बाल कटवाने की जरूरत हुई तो राजा बहुत चिंतित हुए क्युँकि उनके राज्य का शाही हज्जाम के पेट में कोई बात नहीं पचती थी ।

उस हज्जाम का नाम था ‘बम बम’  । राजा ने बम बम हज्जाम को बुलाया और एकांत में अपने बाल कटवाये तथा उस बम बम हज्जाम को चेतावनी दी कि यदि वह राजा के सींग वाली बात किसी से भी कहेगा तो उसकी मृत्यु निश्चित है ।

बेचारा बम-बम हज्जाम अपने घर जा कर लेट गया ।लेकिन बिना कहे उसका पेट फूलने लगा । वह बीमार हो गया ।अंतत: उसने जंगल में जा कर एक वृक्ष को यह बात बता दी । तब जा के उसे राहत मिली । उसी जंगल से कुछ गाने बजाने वाली जा रहे थे , उन्हें अपने वाद्य के लिये एक वृक्ष की तलाश थी । उनलोगों ने उसी वृक्ष को काट लिया । उस वृक्ष के लकड़ी से बने – सारंगी , ढ़ोलक तथा तबला ।

अब वे लोग अपनी कला का प्रदर्शन करने चल दिये राजा के दरबार में । जैसे हीं उन लोगों ने राजा के सामने  सारंगी बजाई , उसमें से आवाज आई “ राजा जी के सर पर दो सींग…..” । ढ़ोलक के थाप पड़ते हीं ढ़ोलक बोल ऊठा , “ किसने कहा ? किसने कहा ? ” । और जैसे उन लोगों ने तबला बजाया , तबले ने कहा , “बम –बम हज्जाम ने कहा ”

इतना सुनते हीं पूरे दरबार सब हँसने लगे । राजा ने भी यह बात स्वीकार्य कर लीं ।

॥ समाप्त ॥